रविवार, 20 सितंबर 2015

वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मे

वो एक ही चेहरा तो नही सारे जहाँ मे कहते हैं आवाज में दर्द और शब्दों में जज्बात तब तक नहीं आते जब तक आपके दिल में भावनाओं का शैलाब ना हो. इस बात से शायद गजल की दुनिया के जादूगर जगजीत सिंह अच्छी तरह वाकिफ थे. अपनी आवाज से करोड़ो दिलों को नई जवानी प्रदान करने वाले जगजीत सिंह की खुद की जिंदगी भी बेहद अजीबो गरीब थी जिसमें दर्द, प्यार और कड़वाहट सभी का मेल था. 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें