गुरुवार, 24 सितंबर 2015

"सोच का सृजन" उड़ेगी बिटिया

"सोच का सृजन" उड़ेगी बिटिया

हाँ नहीं तो और क्या

द़हे़ज

दहेज के जन्मदाता हम

पालनकर्ता हम

तो सामूल मिटाने वाला कौन होगा

हो चुका जो हो चुका

चूक तो बहुत हुई

चूका तो बहुत मौका

सुधरने सुधारने का जोश चढ़ा है

तो मौका है खा लो ना सौगन्ध

ना दोगे ना लोगे दहेज

कोर्ट मैरेज का कानून बना है

शुरुआत मैं कर चुकी

सब क्यों चूके मौक़ा

ना सताये समाजिक रूतबा

लोग क्या कहेंगे ण्ण्ण्ण्ण्ण् लोगों का तो काम ही है कहना

कोरी बातें जितना करवा लो

लम्बी लम्बी डींगे हांकवा लो

करने का वक़्त आयेगा तो

बगले झँकवा लो

बेटे की माँ को बेटे के जन्म से ही उसकी शादी का

शौक का नशा चढ़ा रहता है

तो बेटी की अम्मा तो गुड़िया की शादी शादी खेलती

आत्मजा में अपने सपने संजोये रहती है

डर लगेगी बिटिया कैसे ब्याही जायेगी

डर को दफन करो

मचलेगी बिटिया

उड़ेगी बिटिया

हाँ नहीं तो और क्या

3 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच सकारात्मक सोच जरुरी है ..
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं